सीरिया से अमेरिकी सेना के हटते ही तुर्की ने बरसाए गोले, हज़ारों लोगों का पलायन

तुर्की की पूर्वोत्तर सीरिया में की गई कार्रवाई के एक दिन के भीतर 60, 000 से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं। यह जानकारी युद्ध की निगरानी कर रहे संगठन सीरियन ऑब्ज़र्वटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने गुरुवार को दी.

सीरिया से अमेरिकी सेना के हटते ही तुर्की ने बरसाए गोले, हज़ारों लोगों का पलायन
अमित झा
अमित झा

October 11,2019 12:42

उत्तरी सीरिया में कुर्द लड़ाकों के नियंत्रण वाले इलाकों में तुर्की की सैन्य कार्रवाई दूसरे दिन भी जारी है, जहां से भीषण लड़ाई की ख़बरें मिल रही हैं. तुर्की का कहना है कि उसने कुर्दों के कई ठिकानों पर नियंत्रण कर लिया है और बड़ी संख्या में कुर्द लड़ाके मारे भी गए हैं.

 

turkey attack syria   afp 11 oct  2019

 

हमले के बीच हज़ारों लोगों का पलायन हो रहा है और कुर्दों का दावा है कि कई आम नागिरक मारे गए हैं. तुर्की का कहना है कि वो कुर्द लड़ाकों को हटाकर एक 'सेफ़-ज़ोन' तैयार करना चाहता है, जहां लाखों सीरियाई शरणार्थी भी रहते हैं.

 

military action by turkey in syria

 

तुर्की ने इस कार्रवाई की योजना पहले से बनाकर रखी थी, लेकिन इस पर अमल तब किया जब अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने इलाक़े से अमरीकी सैनिकों को वापस बुला लिया. इलाक़े में कुर्दों के नेतृत्व वाली सीरियाई डेमोक्रेटिक फोर्स (एसडीएफ), इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ लड़ाई में अमरीका की अहम सहयोगी रही है.

 

अमरीका में ऐसे कई लोग हैं जो ये मानते हैं कि राष्ट्रपति ट्रंप ने सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाकर तुर्की को इस कार्रवाई के लिए एक तरह से हरी झंडी दिखाई थी. एसडीएफ का मानना है कि उन्हें 'पीठ में छुरा घोपा गया' है. राष्ट्रपति ट्रंप ने गुरुवार को ट्वीट करके कहा था कि वो सीरिया के अंतहीन युद्ध को ख़त्म करने की कोशिश कर रहे हैं.

 

 

साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि तुर्की ने यदि अपनी हद पार की तो उसे कड़े वित्तीय संकटों का सामना करना पड़ेगा.

 

तुर्की की इस कार्रवाई की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भर्त्सना हुई है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद भी इस पर चर्चा करने वाला है. अंतरराष्ट्रीय समुदाय को उन संदिग्ध इस्लामिक स्टेट के क़ैदियों की चिंता है जिनकी संख्या हज़ारों में है, जो कुर्दों के नेतृत्व वाले बलों की निगरानी में बंद हैं.

 

सेना

 

तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन ने ये कहते हुए अपनी कार्रवाई का बचाव किया है कि इसे यदि क़ब्जा कहा गया तो वो उस इलाके में मौजूद सीरियाई शरणार्थियों को यूरोप भेज देंगे.

turkey military acton against syria america turkey