ads
तेलंगाना में हुई इस दिलचस्प शादी की खबर आपकी आँखें खोल देगी

तेलंगाना में हुई इस दिलचस्प शादी की खबर आपकी आँखें खोल देगी

खैर अब इस कहावत को बदल देना चाहिए “मियां बीबी राजी तो क्या करेगा काजी”.Read More

18 साल का युवा सरकार चुन सकता है तो अपना भविष्य क्यों नहीं- aipwa
18 साल का युवा सरकार चुन सकता है, तो अपना भविष्य क्यों नहीं- AIPWA

'बाल विवाह और कम उम्र में विवाह की समस्या का हल शादी की उम्र बढ़ाने में नहीं है बल्कि बालिग महिलाओं की स्वायत्तता को सपोर्ट करने में है।

15 साल की निडर बच्ची बाल विवाह रोकने के लिए थाने पहुँची और फिर जो हुआ
15 साल की निडर बच्ची बाल विवाह रोकने के लिए थाने पहुँची और फिर जो हुआ...

यह एक रुढ़िवादी प्रथा है, जिसे बाल विवाह नाम दिया गया है. यह बच्चों के मानवाधिकारों को ख़त्म कर देता है.

आखिर क्यों मनुष्य अपने ही जैसे मनुष्य की आजादी से परेशान हो जाता है
आखिर क्यों मनुष्य अपने ही जैसे मनुष्य की आजादी से परेशान हो जाता है ?

आप सोचिये एक मनुष्य अपने ही जैसे दूसरे मनुष्य को मारने,डराने धमकाने को आतुर है | कैसे समाज में जी रहे हैं हम ?

इन तीनों बहनों की मौत का जिम्‍मेदार कौन  सरकार सड़ी-गली व्‍यवस्‍था जनप्रतिनिधि
इन तीनों बहनों की मौत का जिम्‍मेदार कौन ? सरकार, सड़ी-गली व्‍यवस्‍था, जनप्रतिनिधि !

झकझोरती है यह घटना, यह विडम्‍बना ही तो है कि जिन्‍हें जिन्‍दा रहते अपने हिस्‍से का भोजन नहीं मिला और मरने के बाद अपने-अपने हिस्‍से की एक अदद चिता भी नहीं मिली...शर्मनाक

सौरभ कृपाल बनेंगे  देश के पहले ‘गे’ जज जानिये कौन है ये शख्स
सौरभ कृपाल बनेंगे देश के पहले ‘गे’ जज, जानिये कौन है ये शख्स ?

सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के साथ ही हाईकोर्ट का जज बनने का गौरव हासिल कर नया इतिहास रच दिया है।

देश के पत्रकार  क्‍या से क्‍या हो गये देखते-देखते
देश के पत्रकार : क्‍या से क्‍या हो गये देखते-देखते

1950 के दशक से जहां पत्रकार को ईमानदार, लालच से दूर रहने वाले लोगों के किरदार में दिखाया जाता था, वहीं पिछले चार दशकों में अब मीडिया को मूर्खतापूर्ण और टीआरपी का लोभी बताया जाता है

यूपी में वजूद के लिए संघर्ष कर रही कांग्रेस का महिला कार्ड
यूपी में वजूद के लिए संघर्ष कर रही कांग्रेस का महिला कार्ड

विधानसभा चुनाव में यह कार्ड कितना चलता है, यह तो समय बतायेगा लेकिन फिलवक्त राजनीतिक गलियारे में एक विमर्श जरूर छेड़ दिया है कांग्रेस ने, मतदाताओं को रिझाने का कोई मौका छोड़ना नहीं चाहती हैं प्रियंका

क्या यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा से अपने आंसू का हिसाब लेंगे राकेश टिकैत
क्या यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा से अपने आंसू का हिसाब लेंगे राकेश टिकैत?

एक साल पहले तक दिग्गज किसान नेता महेंद्र सिंह टिकैत के पुत्र के रूप पहचाने जाने वाले राकेश टिकैत आज देश के सबसे बड़े किसान नेता के तौर पर अपनी पहचाने जा रहे

अगर अनन्‍या का चैट मजाक था तो यह बहुत क्रूर निकलायुवाओं सावधान
अगर अनन्‍या का चैट मजाक था, तो यह बहुत क्रूर निकला...युवाओं सावधान

शिप क्रूज में छापेमारी के दौरान गिरफ्तार शाहरुख के बेटे आर्यन खान के मोबाइल में मिले अनन्‍या पांडेय के चैट ने अनन्‍या की भी बढ़ायीं मुसीबतें, अनन्‍या ने कहा कि यह मजाक था

नई फिल्म नीति मीडिया की तरह फ़िल्मी कंटेंट भी साधने की सरकारी नीयत
नई फिल्म नीति: मीडिया की तरह, फ़िल्मी कंटेंट भी साधने की सरकारी नीयत

अख़बार में छपने से पहले जैसे कोई रिपोर्टर अपनी खबर, संपादक से पास करवाता हैं, वैसे ही फिल्म निदेशक अब अपनी कहानी की पूरी स्क्रिप्ट पहले सरकार को दिखाएंगे और मंज़ूर होने पर ही उन्हें शूटिंग की इज़ाज़त होगी

18 साल का युवा सरकार चुन सकता है, तो अपना भविष्य क्यों नहीं- AIPWA

'बाल विवाह और कम उम्र में विवाह की समस्या का हल शादी की उम्र बढ़ाने में नहीं है बल्कि बालिग महिलाओं की स्वायत्तता को सपोर्ट करने में है।

15 साल की निडर बच्ची बाल विवाह रोकने के लिए थाने पहुँची और फिर जो हुआ...

यह एक रुढ़िवादी प्रथा है, जिसे बाल विवाह नाम दिया गया है. यह बच्चों के मानवाधिकारों को ख़त्म कर देता है.

आखिर क्यों मनुष्य अपने ही जैसे मनुष्य की आजादी से परेशान हो जाता है ?

आप सोचिये एक मनुष्य अपने ही जैसे दूसरे मनुष्य को मारने,डराने धमकाने को आतुर है | कैसे समाज में जी रहे हैं हम ?

इन तीनों बहनों की मौत का जिम्‍मेदार कौन ? सरकार, सड़ी-गली व्‍यवस्‍था, जनप्रतिनिधि !

झकझोरती है यह घटना, यह विडम्‍बना ही तो है कि जिन्‍हें जिन्‍दा रहते अपने हिस्‍से का भोजन नहीं मिला और मरने के बाद अपने-अपने हिस्‍से की एक अदद चिता भी नहीं मिली...शर्मनाक

सौरभ कृपाल बनेंगे देश के पहले ‘गे’ जज, जानिये कौन है ये शख्स ?

सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के साथ ही हाईकोर्ट का जज बनने का गौरव हासिल कर नया इतिहास रच दिया है।

देश के पत्रकार : क्‍या से क्‍या हो गये देखते-देखते

1950 के दशक से जहां पत्रकार को ईमानदार, लालच से दूर रहने वाले लोगों के किरदार में दिखाया जाता था, वहीं पिछले चार दशकों में अब मीडिया को मूर्खतापूर्ण और टीआरपी का लोभी बताया जाता है

यूपी में वजूद के लिए संघर्ष कर रही कांग्रेस का महिला कार्ड

विधानसभा चुनाव में यह कार्ड कितना चलता है, यह तो समय बतायेगा लेकिन फिलवक्त राजनीतिक गलियारे में एक विमर्श जरूर छेड़ दिया है कांग्रेस ने, मतदाताओं को रिझाने का कोई मौका छोड़ना नहीं चाहती हैं प्रियंका

क्या यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा से अपने आंसू का हिसाब लेंगे राकेश टिकैत?

एक साल पहले तक दिग्गज किसान नेता महेंद्र सिंह टिकैत के पुत्र के रूप पहचाने जाने वाले राकेश टिकैत आज देश के सबसे बड़े किसान नेता के तौर पर अपनी पहचाने जा रहे

अगर अनन्‍या का चैट मजाक था, तो यह बहुत क्रूर निकला...युवाओं सावधान

शिप क्रूज में छापेमारी के दौरान गिरफ्तार शाहरुख के बेटे आर्यन खान के मोबाइल में मिले अनन्‍या पांडेय के चैट ने अनन्‍या की भी बढ़ायीं मुसीबतें, अनन्‍या ने कहा कि यह मजाक था

नई फिल्म नीति: मीडिया की तरह, फ़िल्मी कंटेंट भी साधने की सरकारी नीयत

अख़बार में छपने से पहले जैसे कोई रिपोर्टर अपनी खबर, संपादक से पास करवाता हैं, वैसे ही फिल्म निदेशक अब अपनी कहानी की पूरी स्क्रिप्ट पहले सरकार को दिखाएंगे और मंज़ूर होने पर ही उन्हें शूटिंग की इज़ाज़त होगी