सीएए का विरोध: 2 बेटियों समेत 125 पर केस दर्ज होने के बाद मुनव्वर राना बोले- 300 से ज्यादा सीटें पाने के बाद भाजपा अहंकारी हो गई

सीएए का विरोध: 2 बेटियों समेत 125 पर केस दर्ज होने के बाद मुनव्वर राना बोले- 300 से ज्यादा सीटें पाने के बाद भाजपा अहंकारी हो गई
Desh 24X7
Desh 24X7

January 22,2020 09:40

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में महिलाओं का प्रदर्शन 5वें दिन मंगलवार को भी जारी रहा। इससे पहले पुलिस ने सोमवार देर शाम शायर मुनव्वर राना की दो बेटी सुमैया और फौजिया समेत 125 के खिलाफ धारा-144 के उल्लंघन का केस दर्ज किया। इस पर राना ने कहा- देशभर में प्रदर्शन हो रहे हैं। यह केवल लखनऊ की बात नहीं है। यह एक और मामला है, जहां सरकार उसके खिलाफ कोई आवाज नहीं सुनना चाहती। लोकसभा चुनाव में 300 से ज्यादा सीटें पाने के बाद भाजपा अहंकारी हो गई है।

 

 

 

उन्होंने कहा- कांग्रेस को 1984 में 400 से ज्यादा सीटें मिली थीं मगर आज वह सिमटकर बहुत कम पर आ गई है। पुलिस का काम है एफआईआर दर्ज करना। वो कर रही है। यह दोहरा कानून देश को बर्बाद करने के लिए है। अगर शासन-प्रशासन सूझबूझ से कदम नहीं उठाएगा तो देश की हालत और खराब हो जाएगी।

 

 

 

आप सभी को डरा नहीं सकते: सुमैया

 

 

राना की बेटी सुमैया ने कहा- घंटाघर पर दो से 4 हजार महिलाएं डटी हैं। आप सभी को डरा नहीं सकते हैं। जिस सरकार का 'बेटी बचाओ' नारा था, वही हमारे साथ ऐसा कर रही है। जब कोई आंदोलन करता है तो वह हर मुश्किल से लड़ने की हिम्‍मत भी रखता है।

 

 

 

पुलिस ने तीन अलग-अलग केस दर्ज किए

 

 

शहर में हुसैनाबाद घंटाघर के बाहर चल रहे धरने में महिला प्रदर्शनकारी सीएए को वापस लेने की मांग कर रही हैं। पुलिस ने ठाकुरगंज थाने में प्रदर्शन को लेकर तीन अलग-अलग केस दर्ज किए हैं। इनमें रास्ता जाम करके प्रदर्शन करना, सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी वायरल करना, धारा 144 का उल्लंघन और बलवा का मामला शामिल है। ठाकुरगंज थाने में महिला सिपाही ज्योति कुमारी ने सुमैया राणा और फैजिया राणा समेत 10 के खिलाफ जबकि दो अन्य मुकदमे सब-इंस्पेक्टर सेठ पाल सिंह और सिपाही विक्रांत कुमार ने दर्ज करवाए हैं। बाकी लोगों के खिलाफ धारा-144 के उल्लंघन समेत अन्य मामलों में केस दर्ज किया गया है।

 

 

पुराने लखनऊ में शुक्रवार को प्रदर्शन शुरू हुआ था

 

सीएए-एनआरसी के विरोध में पुराने लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन शुक्रवार को शुरू हुआ था। प्रदर्शन खुले आसमान के नीचे दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर किया जा रहा है। प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं के साथ बच्चे भी हैं। महिलाओं का कहना है कि जब तक सरकार सीएए-एनआरसी को वापस नहीं लेती है, तब तक वह धरना समाप्त नहीं करेंगी।

 

 

 

पुलिस पर खानपान की चीजें जब्त करने का आरोप

 

 

इससे पहले महिलाओं ने आरोप लगाया था कि सर्दी होने के बावजूद पुलिस ने शनिवार देर रात उनके कंबल जब्त कर लिए थे। हालांकि, पुलिस ने इस पर कहा था कि यह आरोप सही नहीं हैं। हम सिर्फ प्रदर्शनकारियों को धारा-144 का उल्लंघन न करने की बात कहने के लिए गए थे।

 

 

 

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश की बेटी भी प्रदर्शन में शामिल हुईं

 

 

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश की बेटी टीना यादव भी प्रदर्शन में शामिल हुईं। प्रदर्शन में बैठी बच्चियों ने टीना के साथ फोटो खिंचवाई। टीना की दोस्त वारिसा ने इसे सोशल मीडिया पर पोस्ट भी किया। हालांकि, इस पर टीना या पूर्व मुख्यमंत्री की ओर से कोई टिप्पणी नहीं की गई।