शाहजहांपुर में कानून की छात्रा ने कहा, चिन्मयानंद ने एक वर्ष तक बलात्कार, यौन उत्पीडन किया

स्वामी चिन्मयानंद पिछले एक वर्ष से मेरा बलात्कार और यौन उत्पीडन कर रहे हैं। मेरी प्रताड़ना तब शुरू हुई, जब मैने ला कालेज हास्टल में रहना शुरू किया।

शाहजहांपुर में कानून की छात्रा ने कहा, चिन्मयानंद ने एक वर्ष तक बलात्कार, यौन उत्पीडन किया

भाजपा नेता स्वामी चिन्मयानंद पर उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली शाहजहांपुर की कानून की छात्रा ने सोमवार को आरोप लगाया कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने एक वर्ष तक उसका बलात्कार और यौन उत्पीडन किया है।

 

शाहजहांपुर में अपने चेहरे को काले कपड़े से ढककर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उसने यह आरोप भी लगाया कि शाहजहांपुर की पुलिस चिन्मयानंद के खिलाफ बलात्कार का केस नहीं दर्ज कर रही है।

 

स्वामी चिन्मयानंद पिछले एक वर्ष से मेरा बलात्कार और यौन उत्पीडन कर रहे हैं। मेरी प्रताड़ना तब शुरू हुई, जब मैने ला कालेज हास्टल में रहना शुरू किया, वह बोली।

 

चिन्मयानंद ला कालेज प्रबंधन समिति के अध्यक्ष हैं।

 

रविवार को SIT ने मुझसे 11 घंटों तक पूछताछ की, मैने उन्हें बलात्कार के बारे में बताया। मैंने SIT अधिकारियों से कहा कि पिछले एक वर्ष से चिन्मयानंद मेरा यौन उत्पीडन कर रहा है। मैंने उनसे कहा कि मैंने चिन्मयानंद के खिलाफ बलात्कार की एफआईआर दिल्ली के लोधी कालोनी पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाई है। उत्तर प्रदेश पुलिस को चिन्मयानंद के खिलाफ बलात्कार की एफआईआर लिखकर उसे गिरफ्तार करना चाहिए, वह बोली।

 

उसने कहा कि उसके पास चिन्मयानंद के खिलाफ सबूत हैं, जो सील किए गए हास्टल के कमरे में मौजूद हैं। मेरे पास सभी सबूत है। हास्टल का कमरा खोला जाये, वह बोली। उसने आगे कहा कि सही समय पर वह सबूत सामने लायेगी।

 

उसने यह आरोप भी लगाया कि पिछले महीने जब उसके पिता शिकायत लिखवाने ग्रे थे, शाहजहांपुर के जिला मजिस्ट्रेट इन्द्र देव सिंह ने उन्हें धमकाया था, इन्द्र देव से संपर्क नहीं हो सका है।

 

बरेली क्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अविनाश चंद्र ने कहा कि उन्हें दिल्ली में दर्ज कराते ग्रे मामले के बारे में जानकारी नहीं है। SIT को इसकी जानकारी होगी, वह हमारे साथ विवरण साझा नहीं कर रहे हैं।

 

कानून की छात्रा के शाहजहांपुर से गायब होने का मामला 23 अगस्त को सामने आया था, उसके एक दिन पहले ही उसने सोशल मीडिया पर एक वीडियो डाला था, जिसमें उसने आरोप लगाया था कि संत समाज का एक प्रभावशाली नेता उसे परेशान कर रहा है और जान से मारने की धमकी दे रहा है।

 

उसके पिता ने चिन्मयानंद पर अपनी लड़की और दूसरी छात्राओं का उत्पीडन करने का आरोप लगाया था। चिन्मयानंद ने आरोपों से इंकार किया था, उनके खिलाफ 27 अगस्त को अपहरण और हत्या के इरादे से अपहरण करने के लिए आईपीसी की धारा 364 और आपराधिक धमकियों के लिए धारा 506 में लड़की के पिता की शिकायत पर अपराध दर्ज कर लिया गया था। कानून की छात्रा 30 अगस्त को राजस्थान में मिली थी, जिसे उच्चतम न्यायालय के सामने पेश किया गया था, जिसने इस मामले में स्वयं संज्ञान लिया था।

 

मैंने अपने परिवार को सावधान करने के लिए। शाहजहांपुर से भागने के बाद वीडियो अपलोड किया था, क्योंकि उनकी जान को भी खतरा था। पुलिस को राजस्थान में मेरे साथ जो लड़का मिला था, वह मेरा भाई है, उसने आज बताया।

 

पिछले सोमवार को उच्चतम न्यायालय ने लड़की की शिकायतों की जांच करने के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार को एक विशेष जांच दल बनाने के लिए कहा था।

Chinmyanand Uttar Pradesh Supreme Court Sahajahanpur