तेलंगाना और आंध्र प्रदेश को भरपूर पानी मिलना जारी, 15 दिनों में नागार्जुन सागर पूरा भरने की उम्मीद

बहुत समय बाद तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के लिए पानी से संबंधित अच्छी खबर है। कर्नाटक के जुराला से काफी अधिक पानी के बहकर आने के कारण इस बात की संभावना बन रही है

तेलंगाना और आंध्र प्रदेश को भरपूर पानी मिलना जारी, 15 दिनों में नागार्जुन सागर पूरा भरने की उम्मीद

गुरुवार शाम को श्रीसेलम में पानी का स्तर 878 फीट था, जलाशय की सीमा से सिर्फ 7 फुट कम। जलाशय की क्षमता 215.81 tmc ft है, उसमें अभी 176.20 TMC ft पानी है।

 

सिंचाई इंजीनियर प्रमुख हरिराम ने कहा कि यदि इसी तरह पानी का आना जारी रहता है, तो जलाशय कुछ ही दिनों में पूरा भर जायेगा और पानी शनिवार या रविवार को छोड़ा जायेगा।

 

महाराष्ट्र और कर्नाटक के कैचमेंट एरिया में भारी बारिश के कारण जुराला और श्रीसेलम में रिकार्ड पानी आया है।

 

कृष्णा नदी पर कर्नाटक सीमा के आखिरी नारायणपुर बांध से देश वर्षों के बाद पहली बार चार लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है, जो जुराला पंहुच रहा है।

 

जुराला को 3.3 लाख क्यूसेक पानी मिल रहा है और वह 3.6 क्यूसेक पानी छोड़ रहा है और 2009 के बाद पहली बार उसके 36 गेटों को खोला गया है।

 

हरिराम ने कहा कि यदि इसी रफ्तार से पानी का आना जारी रहा, तो दो हफ्तों के अंदर पूरा नागार्जुनसागर भर सकता है। एक बार श्रीसेलम जलाशय में पानी 200tmc ft स्तर तक पहुंचता है, अधिकारी इसके गेटों को खोलकर नागार्जुनसागर के लिए पानी छोड़ेंगे।

 

अधिकारी श्रीसेलम से 1,670 MW हाइडल पावर और जुलारा से 240 X 2 यूनिट पैदा कर रहे हैं।

 

उत्तर में कालेश्वरम बैराज सिस्टम इस पानी को लेता है और उन परियोजनाओं को देता है, जिनमें पानी की कमी है। अगर गोदावरी नदी पर बनी परियोजनाओं में भी पानी पूरा भर जाता है, तो राज्य को दोहरा फायदा मिलेगा।