प्रर्वतन निदेशालय ने शिवकुमार की बेटी को नोटिस जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया

पूर्व मंत्री ने पुत्री के नाम पर बड़ी मात्रा में धन का निवेश किया है। शिवकुमार ने 2018 विधानसभा चुनावों में चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र में स्वीकार किया था, उनकी पुत्री के नाम ₹108 करोड़ की संपत्तियां

प्रर्वतन निदेशालय ने शिवकुमार की बेटी को नोटिस जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया

कर्नाटक में कांग्रेस के शक्तिशाली नेता और पूर्व मंत्री डी के शिवकुमार को मनी लांड्रिंग मामले में गिरफ्तार करने के बाद प्रर्वतन निदेशालय का ध्यान उनके परिवार के लोगों की तरफ गया है। प्रर्वतन निदेशालय ने मंगलवार को शिवकुमार की 22 वर्षीय पुत्री ऐश्वर्या को नोटिस जारी कर अपने अधिकारियों के सामने 12 सितंबर को उपस्थित होने के लिए कहा है।

 

बताया जा रहा है कि प्रर्वतन निदेशालय उन आरोपों की जांच कर रहा है, जिनमें कहा गया है कि पूर्व मंत्री ने अपनी पुत्री के नाम पर बहुत बड़ी मात्रा में धन का निवेश कर रखा है। शिवकुमार ने 2018 विधानसभा चुनावों के समय चुनाव आयोग को दिए शपथ पत्र में यह स्वीकार किया था कि उनकी पुत्री ऐश्वर्या के नाम ₹108 करोड़ की संपत्तियां हैं।

 

आयकर विभाग भी पूर्व में यह दावा कर चुका है कि शिवकुमार की पुत्री अपने सिंगापुर में किये निवेश के संबंध में वहां गई थी। उसका कहना है कि यह उसके ₹429 करोड़ के बेहिसाब धन का एक भाग है। सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को प्रर्वतन निदेशालय के अधिकारियों ने शिवकुमार के सदाशिवनगर स्थित घर जाकर समन दिये।

 

हालांकि वोक्कालिगा असोसिएसनों की फेडरेशन ने शिवकुमार की गिरफ्तारी के खिलाफ बुधवार को एक प्रर्दशन करने की योजना बनाई है, लेकिन प्रर्वतन निदेशालय उन पर अपनी पकड़ मजबूत करता जा रहा है। जनता दल सेक्युलर का कहना है कि समुदाय के नेताओं को निशाना बनाना केन्द्र की नीति का एक भाग है। शिवकुमार की सिंगल जज की बेंच के उस आदेश के विरुद्ध पुनर्विचार याचिका, जिसमें अदालत ने प्रर्वतन निदेशालय द्वारा उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था, बुधवार को कर्नाटक उच्च न्यायालय में सुनी जा सकती है। शुक्रवार को दिल्ली में प्रर्वतन निदेशालय की विशेष अदालत में उनकी जमानत याचिका पर भी सुनवाई होनी है। उनके वकीलों को डर है कि 10 दिनों की हिरासत के शुक्रवार को पूरा होने के बाद प्रर्वतन निदेशालय अदालत से 4 दिनों की हिरासत फिर मांग सकता है।

 

निदेशालय ने उनकी आय से अधिक संपत्ति की सीबीआई के द्वारा जांच कराने की मांग की है। लेकिन गिरफ्तार कांग्रेस नेता ने विश्वास जताया है कि वह इस लड़ाई को कानूनी और राजनीतिक, दोनों रूपों में जीतेगा। उन्होंने पार्टी नेताओं और अपने समर्थकों को अपने साथ खड़े रहने के लिए धन्यवाद दिया है और कहा है कि बुधवार को बेंगलुरू में किया जाने वाला प्रर्दशन शांति पूर्वक किया जाये, उससे लोगों को असुविधा न हो। मैं फिर यही कहूंगा कि मैने कुछ भी गलत नहीं किया है। मुझे राजनीतिक बदले की भावना से सताया जा रहा है। आप लोगों के समर्थन और शुभकामनाओं से मुझे कानूनी और राजनीतिक विजय मिलेगी, मेरा भगवान और न्यायालय पर पूरा विश्वास है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष सोनिया गांधी शिवकुमार के भाई सांसद डी के सुरेश से मिली, उन्हें अपना समर्थन देने के साथ ही उनके स्वास्थ्य के विषय में जानकारी ली।

Shivkumar ED Karnataka