केरल, महाराष्ट्र में बढ़ते कोविड मामलो से दिल्ली सतर्क, तीसरी लहर से निपटने की तैयारी

केंद्रीय विशेषज्ञों की टीम हर डाटा पर रख रही है बारीक नज़र, सबकी कोशिश कि पिछली बार की तरह फिर न हो भूल

केरल, महाराष्ट्र में बढ़ते कोविड मामलो से दिल्ली सतर्क, तीसरी लहर से निपटने की तैयारी
Desh 24X7
Desh 24X7

August 31,2021 07:13

केरल में कोरोना वायरस के तेज़ी से बढ़ते हुए केसों के बाद महाराष्ट्र में भी वायरस ने फिर से फैलना शुरू कर दिया है। पिछली बार इन दोनों राज्यों में जब कोविड-19 के मामले अचानक बढ़े थे तो देश में दूसरी लहर ने दस्तक दी थी। इसलिए केरल, कर्नाटक और महाराष्ट्र में वायरस के नए मामले सामने आने पर दिल्ली स्थित केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में धड़कने बढ़ गयी हैं।

मंत्रालय इस बार पहली जैसी भूल न करके तीसरी लहर को लेकर गंभीर है और उसके प्रभाव को कम करना चाहता है। प्रधानमंत्री मोदी के निर्देश पर केंद्र सरकार के एक्सपर्ट और उनसे जुडी टीम भी हर प्रकार के डाटा पर नजर रखें हुए हैं।

 

 

दरअसल चिंता इसलिए बढ़ गयी है क्यूंकि मुंबई में कोरोना वायरस केस में मंगलवार को फिर से बृद्धि देखने को मिल रही है। बीएमसी ने कहा कि मुंबई में कोरोना वायरस के नए केस 300 से बढ़कर 400-450 के आसपास पहुंच गए है। बीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा है कि मुंबई में कोविड-19 पॉजिटिविटी रेट बढ़ी है।

 

 हालात दक्षिण भारत के सबसे ज्यादा घनी आबादी वाले राज्य केरल में भी ठीक नहीं हैं। पिछले कई हफ्तों से, केरल में कोविड की बिगड़ती स्थिति पर सबका ध्यान गया है।  देश में  कोविड के रोजाना मामलों में से लगभग आधे की रिपोर्ट केरल से आ रही है। यहाँ परीक्षण की पोस्टिव दर (टीपीआर) 10% से अधिक है जबकि देश में ये दर  2% के पास है। ओणम पर्व के खत्म होने के साथ ही, केरल में टीपीआर 20% के करीब पहुंच गया है और रोजाना के मामले भारत में कुल मामलों के लगभग दो-तिहाई तक पहुंच गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक केरल में स्थिति पर लगातार नज़र रखी जा रही है। 

 

 

इस बीच  बीएमसी ने कहा है कि मुंबई में केस की बढ़ोतरी देखते हुए टेस्टिंग भी बढ़ा दी गई है। कई क्षेत्रों में लगे प्रतिबंधों में ढील भी दी गई है लेकिन लोकल ट्रेनों में पूरी तरह से टीकाकरण वाले लोगों और जरूरी सेवा के कर्मचारियों को ही अनुमति दी जाती है। वहीं, मुंबई में सोमवार को कोरोना वायरस के 333 नए मामले सामने आए थे जबकि संक्रमण से दो और मरीजों की मौत हो गयी।

 

  बॉम्बे हाई कोर्ट ने भी मुंबई में सार्वजनिक स्थानों पर बढ़ रही लोगों की भीड़ पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि अगर इसे नियंत्रित या सीमित नहीं किया गया, तो शहर को एक बार फिर इस साल कोविड-19 के मामले बढ़ने के दौरान  परेशान करने वाले हालात सामना करना पड़ सकता है। अदालत ने कहा, विशेषज्ञों की राय पर गौर करते हुए,  आने वाले त्योहारों में सतर्कता बरती जाए और सरकार इस सिलसिले में सख्त कदम उठाये।

COVID-19 corona virus third wave Union Health Ministry Modi Govt Maharashtra Mumbai