गांधी के अस्थि अवशेष 2 अक्टूबर को हुए चोरी, तस्वीर पर लिखा 'राष्ट्रदोही'

मध्यप्रदेश के रीवा स्थित बापू भवन में राष्ट्रपिता के अपमान पर लोगों में काफी आक्रोश है। लोगों ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए दोषियों की गिरफ्तारी के लिए आंदोलन करने की चेतावनी दी।

गांधी के अस्थि अवशेष 2 अक्टूबर को हुए चोरी, तस्वीर पर लिखा
अमित झा
अमित झा

October 4,2019 10:43

दो अक्तूबर को जब पूरी दुनिया राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रही थी, उसी दिन रीवा स्थित बापू भवन से महात्मा गांधी के अस्थि अवशेष चोरी हो गए।

 

गांधी

 

इसके साथ ही कुछ शरारती तत्वों ने यहां महात्मा की एक तस्वीर पर हरे रंग से 'राष्ट्रदोही' लिख दिया। राज्य पुलिस ने इसकी पुष्टि कर दी है।  पुलिस ने कहा कि तस्वीर को सही कर दिया गया है, मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है, जांच जारी है।

 

रीवा स्थित बापू भवन की देखरेख करने वाले मंगलदीप ने इस घटना को शर्मनाक बताया है।

 

उन्होंने 'द वायर' वेबसाइट से कहा, ''मैंने सुबह भवन का गेट खोला क्योंकि गांधी जयंती थी। मैं रात करीब 11 बजे जब वापस आया तो देखा कि गांधी जी की अस्थियां गायब थीं और उनकी तस्वीर को ख़राब किया गया था।''

 

इस घटना के सामने आने के बाद कांग्रेस के स्थानीय नेता गुरमीत सिंह ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।

 

उन्होंने द वायर वेबसाइट से कहा, ''यह पागलपन बंद होना चाहिए। मैं रीवा पुलिस से गुज़ारिश करता हूं कि वो बापू भवन में लगे सीसीटीवी कैमरों की जांच करें।''

 

बापू भवन

 

महात्मा गांधी ने भारत को ब्रिटिश हकूमत से आज़ादी दिलाने में बेहद अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने अपने सत्याग्रह और अहिंसक आंदोलन के ज़रिए पूरे विश्व में ख्याति प्राप्त की।

 

एफ़आईआर की कॉपी

 

हालांकि भारत में एक समूह उन्हें हिंदुओं के ख़िलाफ़ मानता है। इस समूह का सोचना है कि महात्मा गांधी मुसलमानों के पक्षधर थे। इसी सोच के चलते हिंदू महासभा के एक सदस्य नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी 1948 में उनकी हत्या कर दी थी।

 

मृत्यु के बाद महात्मा गांधी की अस्थियों को नदी में विसर्जित नहीं किया गया था।

 

उन्हें अलग-अलग हिस्सों में बांटकर भारत में बने गांधी के विभिन्न संग्रहालयों में रखा गया, इन्हीं में से एक रीवा का बापू भवन भी है।

 

 

mahatma gandhi madhya pradesh bapu bhavan stolen