मध्‍य प्रदेश: हनी ट्रैप गैंग के निशाने पर थे 13 आईएएस, विडियो बनाकर ब्‍लैकमेल की थी तैयारी

मध्‍य प्रदेश के हनी ट्रैप ग‍िरोह से एक डायरी म‍िली है ज‍िसमें राज्‍य के 13 बड़े आईएएस अधिकारियों के नाम दर्ज हैं। इन अधिकारियों के सेक्‍स व‍िड‍ियो बनाकर उन्‍हें ब्‍लैकमेल की तैयारी थी।

मध्‍य प्रदेश: हनी ट्रैप गैंग के निशाने पर थे 13 आईएएस, विडियो बनाकर ब्‍लैकमेल की थी तैयारी
Desh 24X7
Desh 24X7

September 26,2019 03:21

मध्‍य प्रदेश हनी ट्रैप कांड में एक और बड़ा खुलासा हुआ है। इस गिरोह के सदस्‍यों के पास से जांच एजेंसियों को आईएएस अधिकारियों की एक 'टारगेट लिस्‍ट' मिली है, जिन्‍हें सुंदरियों ने अपने प्रेम जाल में फंसा लिया था और अब उनके सेक्‍स विडियो का बनाकर ब्‍लैकमेलिंग की तैयारी थी। हनी ट्रैप गिरोह की लिस्‍ट में ऐसे आईएएस अधिकारियों के नाम लिस्‍ट में कोड वर्ड में दर्ज हैं।

 

देश का 'सबसे बड़ा ब्‍लैकमेलिंग सेक्‍स स्‍कैंडल' कहे जाने वाले इस मामले में अब तक 4 हजार से अधिक फाइलें जांच एजेंसियां तैयार कर चुकी हैं और इनके मिलने का सिलसिला अभी जारी है। इस गिरोह के शिकार चार राज्‍यों के शीर्ष नेता, आईएएस अधिकारी, इंजिनियर, बड़े व्‍यापारी हुए हैं। इन सेक्‍स विडियो और अश्‍लील चैट, ब्‍लैकमेलिंग के सबूत गिरोह के सदस्‍यों के लैपटॉप और मोबाइल से बरामद किए गए हैं।

 

इस खुलासे के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि पूरी तरह से महिलाओं द्वारा संचालित इस सेक्‍स और ब्‍लैकमेलिंग गिरोह के पीछे कौन लोग हैं? कौन उन्‍हें टारगेट देता था? सूत्रों ने बताया कि इस मामले की जांच कर रही एसआईटी के हाथ एक लिस्‍ट लगी है, जिसमें कम से कम 13 ऐसे आईएएस अधिकारियों के नाम हैं जो अलग- अलग समय पर मत्‍स्‍य पालन, कृषि, संस्‍कृति, उद्योग, शहरी प्रशासन, श्रम, वन, जल संसाधन, जन संपर्क और प्रशासनिक विभागों में काम कर चुके हैं।

 

गिरोह के संचालक ने बनाया था 'हिट लिस्‍ट'

 

इस सेक्‍स ब्‍लैकमेलिंग गिरोह के संचालक ने एक सरकारी डायरी के पन्‍नों पर 'हिट लिस्‍ट' बनाया था। जांच से जुडे़ एक अधिकारी ने बताया कि टार‍गेट लिस्‍ट में शामिल अफसरों के नामों के आगे टिक लगे हुए थे और कोड वर्ड भाषा में कुछ लिखा है। कुछ अधिकारियों के नामों पर घेरा बनाया गया है और कुछ अधिकारियों के नाम के आगे 'महत्‍वपूर्ण' या 'ओके' लिखा हुआ है। जांचकर्ता कोड वर्ड भाषा में लिखी बातों का मतलब पता लगा रहे हैं।

 

अधिकारी ने बताया कि कितने अधिकारियों को सुंदरियों ने अपने मोहपाश में फंसाया, यह अभी जांच का विषय है। सूत्रों के मुताबिक इस गिरोह की सुंदरियों के मोबाइल फोन से कुछ विडियो क्लिप मिले हैं। एक अधिकारी ने कहा, 'मोहपाश में फंसे अधिकारियों की व‍िडियो क्लिप को देखकर पहचान की जा रही है और बिना उनकी पोस्‍ट या वरिष्‍ठता को ध्‍यान में रखे उन्‍हें कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा।'

madhya pradesh honeytrap ias officer