कर्नाटक, गोवा का हाल देख मध्य प्रदेश में अलर्ट हुई कांग्रेस

कर्नाटक और गोवा में कांग्रेस के कई विधायक बीजेपी में आ गए हैं। पिछले दिनों तेजी से बदले सियासी घटनाक्रमों को देखते हुए दूसरे राज्यों में कांग्रेस नेतृत्व काफी अलर्ट हो गया है।

कर्नाटक, गोवा का हाल देख मध्य प्रदेश में अलर्ट हुई कांग्रेस

कांग्रेस कर्नाटक में सियासी उठापटक से सबक लेकर चौकन्नी हो गई है। उसे आशंका है कि कर्नाटक और गोवा के बाद भाजपा मध्यप्रदेश का रुख कर सकती है। यही वजह है जिसके कारण मध्य प्रदेश में कांग्रेस विधायकों की बुधवार को 11 दिन में तीसरी बैठक होने वाली है। सूत्र बताते हैं कि इस बैठक का उद्देश्य गोवा और कर्नाटक से सबक लेकर, बहुत ही बारीक बहुमत वाली मध्यप्रदेश सरकार में अपने विधायकों को एकजुट रखना है।

 

कर्नाटक में कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 3 विधायक विधानसभा से इस्तीफा दे चुके हैं, इसके साथ ही दो निर्दलीय विधायक भी सरकार से अपना समर्थन वापस ले चुके है। वहीं दूसरी तरफ गोवा में कांग्रेस के 15 विधायकों में से 10 विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं। मध्यप्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 114 और भाजपा के 109 विधायक हैं। कांग्रेस के कमलनाथ को बसपा के दो, सपा के एक और चार निर्दलीय विधायकों ने समर्थन दिया हुआ है।

 

सूत्रों के अनुसार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस, सहयोगी दल सपा और बसपा के अलावा निर्दलीय विधायकों के साथ बैठक की पूरी तैयारी कर ली है। वह बुधवार से शुरू हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र में वित्तीय मामलों पर मत विभाजन के दौरान विधायकों को डिनर डिप्लोमेसी के सहारे एकजुट रखना चाहते हैं। इससे पहले भी मुख्यमंत्री इसी तरह की बैठकें 7 और 11 जुलाई को भी कर चुके हैं।

 

goa karnataka madhya pradesh