टीआरएस कार्यकर्ताओं ने वन विभाग के अधिकारियों पर डंडों से हमला बोला

वन रेंज अधिकारी अनीता की डंडों से पिटाई की गयी। अन्य महिला वन अधिकारियों की गांव की महिलाओं ने पिटाई कर दी।

टीआरएस कार्यकर्ताओं ने वन विभाग के अधिकारियों पर डंडों से हमला बोला

पुलिस तमाशबीनों की तरह चुपचाप खड़ी रही और सिरपुर (तेलंगाना) विधायक कोनेरू कोनप्पा के भाई कोनेरू कृष्णा, आसिफाबाद जिले के कोमारम भीम जिला परिषद के उपाध्यक्ष और उनके गुंडों ने महिला वन रेंज अधिकारी और उनके स्टाफ को डंडों, और बल्लियों से पीटते रहे।

 

आरोप यह भी है कि कुछ तेलंगाना राष्ट्र समिति नेताओं ने महिला वन स्टाफ के बालों को पकड़कर खींचा और उनके साथ दुर्व्यवहार किया, मौके पर मौजूद पुलिस चुपचाप तमाशा देखती रही।

 

तेलंगाना राष्ट्र समिति के कार्याध्यक्ष के टी रामाराव ने हिंसा की निंदा की है।

 

घटना के एक वीडियो में गांव वाले अनीता को मार रहे हैं, जो पिटाई होने के बाद बेहोश होकर गिर पड़ी। वन अधिकारी अपने साथ जो ट्रेक्टर लेकर आए थे, टीआरएस कार्यकर्ताओं ने उन पर भी हमला कर दिया।

 

वन अधिकारी 50 एकड़ जमीन को आने वाली हरित हरम योजना के अंतर्गत वृक्षारोपण के लिए तैयार कर रहे थे, ताकि एक जंगल को विकसित कर कालेश्वरम बांध के निर्माण के कारण हुये वृक्षों के नुकसान को पूरा किया जा सके।

 

स्थानीय लोग आसिफाबाद जिले के कोमारम भीम में कागज नगर मंडल के कोठा-सरसाला की इस जमीन पर लम्बे समय से खेती करते थे और इसे छोड़ना नहीं चाहते थे।

 

कोनेरू कृष्णा और उसके गुंडों ने वन विभाग के वाहनों को तोड़ डाला और वन विभाग के स्टाफ के बीच अफरा तफरी मचा दी।

 

वन विभाग का स्टाफ हतप्रभ और असहाय था, क्योंकि जिला परिषद का उपाध्यक्ष ही उन पर हमला कर रहा था।

 

कागजनगर पुलिस ने कोनेरू कृष्णा समेत 16 लोगों को हिरासत में ले लिया है। वारंगल क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक नागी रेड्डी ने कागजनगर के उप पुलिस अध संम्भैय्या और ग्रामीण क्षेत्र के निरीक्षक वेंकटेश्वरालू को अपनी सेवाओं को ठीक तरह न करने के आरोप में निलंबित कर दिया है।

 

कोनेरू कृष्णा ने दावा किया है कि वन अधिकारी और उनका सरकार स्थानीय किसानों को परेशान कर रहा था, उन्हें उनकी उस जमीन पर बुआई नहीं करने दे रहा था, जिसके उनके पास जनजाति और अन्य पारंपरिक वन रहिवासी (वन अधिकारी सुनिश्चित) अधिनियम के अंतर्गत पट्टे हैं।

 

उसका आरोप है कि वन विभाग का स्टाफ स्थानीय किसानों को उनकी ही जमीन नहीं जोतने दे रहा था। उन्होंने घटना के लिए वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को जिम्मेदार ठहराया। कृष्णा ने आसिफाबाद जिला परिषद के उपाध्यक्ष पद से वन विभाग के अधिकारियों और स्टाफ के अवांछनीय व्यवहार के विरोध में इस्तीफा देने की घोषणा की है।

 

 

TRS WORKERS BEATING