दिल्ली प्रदूषण: सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण के खिलाफ नई जंग छेड़ दी है

सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण का प्रकोप देखते हुए एक अहम कदम उठाया है | इस दौरान प्रदूषण पर मीडिया रिपोर्टस पर सुप्रीम कोर्ट ने फिर नाराजगी जताई है |

दिल्ली प्रदूषण: सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण के खिलाफ नई जंग छेड़ दी है

सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी के बाद केंद्र सरकार ने दिल्ली में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए टास्क फोर्स का गठन किया है. गुरुवार को ही कोर्ट ने केंद्र से कहा था कि 24 घंटों के भीतर कोई ठोस कदम उठाएं नहीं तो हमारी तरफ से निर्देश जारी किए जाएंगे. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट की तरफ से भी टास्क फोर्स के गठन की बात कही जा चुकी थी.

 

 

NCR प्रदूषण मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. इस दौरान प्रदूषण पर मीडिया रिपोर्टस पर सुप्रीम कोर्ट ने फिर नाराजगी जताई है. कोर्ट ने कहा कि कुछ लोग ये कहने लगे कि हम स्टूडेंट्स के समर्थन में नहीं हैं. हमनें ये कब कहा कि हम दिल्ली सरकार को चलाकर प्रशासन करेंगे? आज के पेपर देखिए. आप जा सकते हैं और लोगों को समझा सकते हैं. ये हम नहीं कर सकते हैं.

 

 

वहीं सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल (SG) तुषार मेहता ने कहा कि हमने थोड़ी देर से हलफनामा दाखिल किया है. हमारा आग्रह है कि कुछ दिन इस मैकेनिज्म को काम करने दिया जाए. तुषार मेहता ने कोर्ट से कहा कि हमने टास्क फोर्स बनाई है, जो रोज बैठक करेगी. टास्क फोर्स में दो स्वतंत्र सदस्य होंगे. ये रोजाना 6 बजे मिलेंगे और फिर देखेंगे कि निर्देशों का पालन हुआ है या नहीं. फ्लाइंग स्क्वायड उसे रोज रिपोर्ट करेंगी. तुषार मेहता ने कोर्ट से कहा कि औद्योगिक इकाईंयों पर कड़ी शर्तें लगाई गई हैं. वहीं जस्टिस चंद्रचूड़ ने सवाल करते हुए पूछा कि क्या ये दिल्ली के लिए है या NCR के लिए भी ? इसपर केंद्र सरकार की ओर से जवाब देते हुए कहा गया कि टास्क फोर्स दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण के मानकों पर काम करेगी. फ्लाईंग स्वकायड पूरे एनसीआर क्षेत्र में होगा और लापरवाही से सख्ती से निपटा जाएगा.

 

 

सुप्रीम कोर्ट ने पूरी बात सुनने के बाद केंद्र के टास्क फोर्स और फ्लाईंग स्कवायड को मंजूरी दी और कहा कि उपायों पर तुरंत कदम उठाए जाएं. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को भी कोविड अस्पतालों के निर्माण कार्य की मंजूरी दे दी है. वहीं अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 10 दिसंबर को की जानी है.

supreme courtdelhi pollution newscentral government