विश्व के वैज्ञानिकों ने कहा, कोविड-19 को रोकने में कपड़े का फेस मास्क उपयोगी है

मेडिकल ग्रेड के फेस मास्क का इंतजार करने की आवश्यकता नहीं है, किसी भी प्रकार से चेहरे को ढकना पर्याप्त है, चाहे वह किसी कपड़े, स्कार्फ, रुमाल, टी-शर्ट, कागज का तौलिया ही क्यों न हो, यह सभी प्रभावी है।

विश्व के वैज्ञानिकों ने कहा, कोविड-19 को रोकने में कपड़े का फेस मास्क उपयोगी है

कोविड-19 के सामुदायिक फैलाव को रोकने में फेस मास्क बहुत ही उपयोगी है। इस बारे में पूरे विश्व में किये गये अनुसंधानों के नतीजों से प्रभावित होकर विश्व के अनेकों वैज्ञानिक सामने आये हैं और उन्होंने फेस मास्क का उपयोग करने के लिए लोगों से निवेदन किया है।

 

इन वैज्ञानिकों ने विश्व के लोगों के नाम जारी किए गए अपने खुले पत्र में तर्क दिया है कि फेस मास्क लगाने से संक्रमण होने का खतरा बहुत कम हो जाता है। वैज्ञानिकों ने जोर देकर कहा है कि फेस मास्क लगाना या चेहरे को ढकना, लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए बहुत उपयोगी है।

 

बयान को जारी करने वालों में सनफ्रांसिस्को विश्वविद्यालय के शोध वैज्ञानिक जर्मी हार्वर्ड, विन्सेंट राजकुमार, मुख्य संपादक, ब्लड कैंसर जर्नल के साथ ही उत्तरी अमेरिका, अफ्रीका, एशिया, ओसियाना और यूरोप के बहुत से प्रमुख वैज्ञानिक है।

 

इन सबने संयुक्त रूप से कहा है कि एक नई महत्वपूर्ण खोज से संबंधित एक आवश्यक संदेश है कि सार्वजनिक स्थानों पर कपड़े के फेस मास्क का उपयोग करना कोविड-19 के सामुदायिक फैलाव को रोकने का एक बहुत प्रभावी तरीका है।

 

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 19 विशेषज्ञों के द्वारा किये गये अनुसंधानों और अन्य रिसर्चरों के निष्कर्ष बताते हैं कि 

  • संक्रमण के शुरुआती दौर में लोगों के संक्रमित होने का खतरा बहुत अधिक रहता है। जिस समय यह सामान्य बात है कि लक्षण या तो बहुत कम दिखते हैं या फिर दिखते ही नहीं।
  • विषाणु फैलाने वाली, मुंह और नाक से निकलने वाली बूंदों की बहुत बड़ी मात्रा को फेस मास्क रोकने में बहुत प्रभावी हैं। 
  • गैर मेडिकल फेस मास्क कोरोना विषाणु के संक्रमण को रोकने में बहुत प्रभावी हैं।
  • कपड़े से बने मास्क को साबुन से धोकर पुनः उपयोग में लाया जा सकता है। 
  • जिन स्थानों और अवसरों पर लोगों ने मास्क का प्रयोग किया है, वहां पर विषाणु का सामुदायिक फैलाव बहुत ही कम हुआ हैं। 
  • लोगों के मास्क लगाना विषाणु के प्रसार को रोकने का सशक्त माध्यम है। जहां पर लोग फेस मास्क का बहुत अधिक उपयोग कर रहे हैं, वहां पर देखा गया है कि कोविड-19 का फैलाव या तो थम गया है या फिर बहुत ही धीमा हुआ है।
  • इस संबंध में कानून लागू करने से लोगों को फेस मास्क का उपयोग करवाने में बहुत मदद मिली हैं।

क्लीनिकल और प्रयोगशाला के संयंत्र पर, इस बात के बहुत से सबूत मिले हैं कि मास्क लगाने से संक्रमित बूंदों का फैलाव रुकने से, संक्रमण के संपर्क में आने के अवसर बहुत कम हो जाते हैं। संक्रमण के फैलने में होने वाली इस कमी की वजह से लोगों के स्वास्थ्य को नुकसान, मौतें, नौकरियों का जाना, आर्थिक हानि आदि सभी को कम करने में बहुत मदद मिलती है। 

 

उदाहरणों से पता चलता है कि अन्य उपायों के साथ बड़े पैमाने पर उपयोग करने से संक्रमितों का आंकड़ा 1.0 के नीचे लाने में मदद मिलती है, इस तरह यह उपाय महामारी का प्रसार रोकने में सहायक है।

 

इसलिए हमारी सलाह है कि सरकारी अधिकारियों को सभी सार्वजनिक स्थानों पर जैसे भंडार, यातायात व्यवस्था और सार्वजनिक भवनों में जितनी जल्दी हो सके कपड़े के फेस मास्क लगाना शुरू कर देना चाहिए। इससे जो लोग अनजाने में संक्रमण की बीमारी को फैला रहे हैं, उस पर रोक लगेगी।

 

वैज्ञानिकों ने वस्तुएं और सेवायें उपलब्ध कराने वाले उत्पादकों और व्यापारियों से भी सुनिश्चित करने के लिए कहा कि कानूनी रूप से यह जरूरी हो या न हो, उनके कर्मचारी और ग्राहक मास्क लगायें। उनके कर्मचारियों और ग्राहकों को बीमारी से बचाने के लिए यह महत्वपूर्ण कदम होगा।

 

इस प्रकार की आवश्यकताओं से मास्क लगाने वालों की संख्या बहुत बढ़ जायेगी, लेकिन इस कदम को हाथों को स्वच्छ रखने, आवश्यक दूरी बनाने, परीक्षण करवाने और संपर्क का पता लगाने वाले नीतिगत उपायों का पर्याय नहीं समझा जाना चाहिए।

 

इस उपाय को स्पष्ट निर्देशों के साथ अपनाने के लिए कहना चाहिए, जिनमें उपयोग के बाद मास्क को स्वच्छ करना और फिर उपयोग में लाना जैसी महत्वपूर्ण बातें है।

 

मेडिकल ग्रेड के फेस मास्क का इंतजार करने की कोई आवश्यकता नहीं है, किसी भी प्रकार से चेहरे को ढकना पर्याप्त है, चाहे वह किसी कपड़े, स्कार्फ, रुमाल, टी-शर्ट, कागज का तौलिया ही क्यों न हो, यह सभी प्रभावी है।

 

इस परिपत्र पर विश्व के 119 से अधिक विशेषज्ञों ने हस्ताक्षर किए हैं।

Reusable Face Mask Covid-19 decease spread