उत्तर प्रदेश में दलित उत्पीड़न के जितने मामले सामने आ रहे हैं, योगी को सत्ता त्याग देना चाहिए

खासकर दलितों के खिलाफ मामले हों तो यूपी सबसे आगे रहता है। योगी सरकार के दावों के उलट दलितों के खिलाफ उत्पीड़न का मामला जारी है।

उत्तर प्रदेश में दलित उत्पीड़न के जितने मामले सामने आ रहे हैं, योगी को सत्ता त्याग देना चाहिए

उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) में आपराधिक घटनाएं आए दिन होती रहती हैं। खासकर दलितों के खिलाफ मामले हों तो यूपी सबसे आगे रहता है। योगी सरकार के दावों के उलट दलितों के खिलाफ उत्पीड़न का मामला जारी है। अब एक और ताजा मामला सामने आया है। यह मामला अमेठी से जुड़ा है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अमेठी में दलित बच्ची को निर्ममता से पीटने वाली घटना को निंदनीय बताया है। उन्होंने ट्विटकर यूपी के सीएम को बताया है कि आपके राज में हर रोज दलितों के खिलाफ औसतन 34 अपराध की घटनाएं होती हैं और 135 महिलाओं के ख़िलाफ़, फिर भी आपकी कानून व्यवस्था सो रही है। अगर 24 घंटे के अंदर इस अमानवीय कृत्य को करने वाले अपराधियों को नहीं पकड़ा गया तो कांग्रेस पार्टी जोरदार आंदोलन करके आपको जगाने का काम करेगी।

 

 

बता दें कि उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा को देखते हुए महिला को एकजुट करने की मुहिम में प्रियंका गांधी पहले से ही जुटी हैं। महिला मैराथन में काफी संख्या में लड़कियाँ भाग ले रही हैं। हालाँकि, पिछले कई चुनावों से कांग्रेस राज्य में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पा रही है। उन्होंने लिंग समानता का मुद्दा उठाते हुए चुनावों में महिलाओं को 40 फीसदी टिकट देने का ऐलान किया है। कांग्रेस इसी बहाने हाथरस में दलित युवती से हुई गैंगरेप मामले और उन्नाव मामले के बहाने बीजेपी सरकार पर निशाना साध रही है।

 

 

 

हम आपको बता दें, अमेठी के डीएसपी अर्पित कपूर ने बताया कि आरोपियों सूरज सोनी, शिवम और साकाल एवं अन्‍य के खिलाफ पुलिस ने पाक्‍सो एक्‍ट (POCSO ACT), एससी-एसटी एक्‍ट (SC/ST Act)  के तहत मुकदमा दर्ज किया है. उन्‍हें पकड़ने के लिए लगातार दबिश दी जा रही है. एक आरोपी नमन सोनी की गिरफ्तारी कर ली गई है. डीएसपी कपूर ने कहा कि पीड़िता संग्रामपुर पुलिस थाने के एक गाँव की रहने वाली है. जबकि यह वारदात रायपुर फुलवारी कस्‍बे में हुई. उन्‍होंने दावा किया कि जल्‍द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा

 

 

 

हाल ही में मद्रास हाई कोर्ट की एक बेंच ने एक अखबरा में छपी एक खबर पर खुद ही संज्ञान लेते हुए यह टिप्पणी की हैं कि ‘हमने सदियों तक निचली जातियों के साथ खराब व्यवहार किया। आज भी उनके साथ ठीक बर्ताव नहीं हो रहा है। उनके पास बुनियादी सुविधाएं तक नहीं हैं। इसलिए हमें अपना सिर शर्म से झुका लेना चाहिए।’ 

 

 

amethi dalit girl beaten upcasteism