आर्मको संयंत्र पर ड्रोन हमले के बाद तेल उत्पादन आधा किया

आर्मको तेल संयंत्र पर हमला किये जाने के बाद सऊदी अरब ने दो तेल उत्पादन इकाइयों में उत्पादन रोक दिया है। इसके कारण कंपनी का तेल उत्पादन आधा हो गया है।

आर्मको संयंत्र पर ड्रोन हमले के बाद तेल उत्पादन आधा किया

यमन विद्रोहियों के द्वारा आर्मको तेल संयंत्र पर हमला किये जाने के बाद सऊदी अरब ने दो तेल उत्पादन इकाइयों में उत्पादन रोक दिया है। इसके कारण कंपनी का तेल उत्पादन आधा हो गया है, ऊर्जा मंत्री ने कहा।

 

हमले के कारण अस्थाई तौर पर अबक्वैक और खुराइस संयंत्रों में उत्पादन बंद करना पड़ा है, ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलअजीज बिन सलमान ने सऊदी की आधिकारिक प्रेस एजेंसी को दिये बयान में कहा। उन्होंने आगे बताया कि इसके कारण तेल का उत्पादन आधा रह गया है। इन हमलों के कारण हमें, प्रतिदिन 5.7 मिलियन बैरल कच्चे तेल का उत्पादन स्थगित करना पड़ा है, सरकारी कंपनी आर्मको ने अलग से जारी किए बयान में कहा है।

 

आर्मको के कार्यकारी अधिकारी नासेर ने कहा कि उत्पादन पुनः शुरू करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस संबंध में प्रगति का विवरण अगले दो दिनों में जारी किया जायेगा। हाल के महीनों में सरकारी मालकीयत वाली कंपनियों पर हूथी विद्रोहियों के द्वारा किये ड्रोन हमलों में पूर्वी सऊदी अरब में स्थित आर्मको के अबक्वैक और खुराइस संयंत्रों पर हमले ताजा हैं। नासेर ने कहा कि हमलों में किसी के जख्मी होने की कोई खबर नहीं है।

 

ईरान समर्थित हुथी विद्रोहियों ने कहा कि उन्होने तेल संयंत्रों पर बड़े पैमाने पर 10 ड्रोनों से हमले की योजना बनाई थी, संगठन के अल मशीराह टेलीविजन ने रिपोर्ट किया है। अमेरिका के राज्य सचिव माइक पोम्पिओ ने हमले के लिए ईरान को जिम्मेदार ठहराया है। पोम्पिओ ने कहा कि ईरान ने विश्व की ऊर्जा आपूर्ति पर अब अप्रत्याशित हमले शुरू कर दिए हैं।

 

वाशिंगटन के प्रमुख सहयोगी सऊदी अरब ने बार बार ईरान पर, विद्रोहियों को हथियार देने का आरोप लगाया है। तेहरान ने इन आरोपों को गलत बताया है। हमलों की बढ़ती संख्या से यह  पता चलता है कि सऊदी अरब की आधारभूत संरचना, जिसमें तेल संयंत्र भी शामिल हैं, किस तरह हथियारों को लगातार बढ़ाते जा रहे हुथी विद्रोहियों के आसान निशाने पर है। विद्रोहियों के पास अब बैलास्टिक मिसाइल से लेकर मानव रहित ड्रोन तक हैं।

Saudi Arab Oil production Drone attack